रविवार, 8 अप्रैल 2018

मां का कमरा भूल गया tanu thadani तनु थदानी

कैसे भला जगाये उसे, जो खुली आंख से सोयेगा !
जीने के अभिनय मेंं अपनी, हंसी खुशी सब खोयेगा !

आफिस पैसे याद रहे पर, मां का कमरा भूल गया,
नहीं पता था मां को तेरी, इतना बड़ा तू होयेगा !

बहुत बैठकें कर ली बाहर, मां के संग भी बैठा कर,
बाद में मां की फोटो को तू ,देख हमेशा रोयेगा !

सबसे हाथ मिलाता है तू , बाहर खाना खाता है तू ,
नकली हंसी खुशी को पगले;कितना और तू ढ़ोयेगा ?
-----------------------------------  तनु थदानी

शनिवार, 24 मार्च 2018

सुन जीवन एक तराना है तनु थदानी हे ईश्वर-3

ये ग़म तो  एक  खजाना है !
फिर सुख तो आना जाना है!

रहने की जगह औकात ही है,
बाकी  तो  मात्र  बहाना  है !

इतने शिकवे, साजिश, नफरत,
दिल  है  या  कबाड़खाना है ?

दिल की धकधक सांसो की लय,
सुन  ; जीवन एक  तराना  है !

गुरुवार, 6 जुलाई 2017

तनु थदानी हमारे बाप का हिस्सा ही ये हिन्दुस्तान है tanu thadani

मुगल तो बस लूटेरे थे , हमें तो ये ही ध्यान है !
यही इतिहास का, कड़वा मगर , सच्चा बयान है !

भिखारी को खिलाने का , हमारा धर्म है , लेकिन ,
हमारा खा के ना समझे कि ,ये उसका मकान है !

तुम्हारा बाप तुमको नाम ,राहत दे के मर गया ,
मगर तुम में तो राहत का नहीं, नामो निशान हैं !

तुम्हारे बाप ने लड़ ले लिया , हिस्सा जमीन का ,
हमारे बाप का हिस्सा ही ये , हिन्दुस्तान है !!
----------------------- तनु थदानी

मंगलवार, 14 जून 2016

Tanu thadani तनु थदानी हिन्दुस्तान से प्यार करें

हिन्दुस्तान से प्यार करें
--------------------------------
बेशक़ हम व्यापार करें , झगड़े भी हर बार करें ;
मगर जरुरी है ये भी कि , हिन्दुस्तान से प्यार करें !


कहीं मराठी,कहीं बंगाली,कहीं पंजाबी,तमिल मिला ;
खुद को हिन्दुस्तानी बोलें ; ये भी क्या सरकार करे ?


अगड़ा पिछड़ा पंडित मुस्लिम, दलित वगैरह भरे पड़े ;
बन के हिन्दुस्तानी ; चल ; नेताओं को बेकार करें !


कोई गौ को माँ बतलाये ;कोई उसको काट चिढ़ाये ;
कोई चाकू दो तरफों से ;टोपी पहन के धार करे !


राम जी बोले अरे मोहम्मद ; हमने ये क्या कर डाला ;
इंसा में पशुता भर आयी ; कैसे; चलो विचार करें !


कहा मोहम्मद साहब ने कि ; किसको राह दिखाओगे ?
आँख सलामत वाले ही जब ;अंधों सा व्यवहार करें !


एक थदानी बोल रहा ; तुम सारे हिन्दुस्तानी हो ;
सबका एक तिरंगा है बस ; हिन्दुस्तान से प्यार करें !!
----------------------------- तनु थदानी







शनिवार, 27 फ़रवरी 2016

Tanu thadani तनु थदानी हूँ बूँद बूँद सा बिखरा मैं

ये कौन हमारे आगे पीछे ; ग़म के पत्थर पटक गया ?
शायद अपना ही अंतस था ; कुछ कुछ ऐसा ही खटक गया !


इतने सारे सत्संग चलते ; अजान नमाज़ में व्यस्त सभी ;
फिर भी देखो हर इक चेहरा ; हर इक ख्वाहिश पे चटक गया !


सपनों के चप्पे चप्पे पर ; हम रूप बदल कर चिपके हैं ;
सपनों की बस्ती चकाचौंध ; जो गया वो रस्ता भटक गया !


इक होता है एकांत जो अपनी ; बाहों में भर लेता है ;
है होता एक अकेलापन ; जो फंसा वहीं पे लटक गया!


हूँ बूंद बूंद सा बिखरा मैं ; अपनी ही हर अभिव्यक्ति पर ;
आवाज की सरहद लांघ के जब ; रोया ;ग़ज़लों में अटक गया !
------------------------------ तनु थदानी

सोमवार, 1 फ़रवरी 2016

tanu thadani तनु थदानी ग़ज़ल

डरे सब कैमरे से ; रब से क्यूं न डरता है यारों !
अगर तुम मानते रब को ; वो देखा करता है यारों !


कि जिस रब ने हमें बुद्धि दी ; दुनियां खूबसूरत दी ;
क्यूं उसकी चापलूसी में ;मारता ; मरता है यारों  ?


तुम्हारे धर्म की पुस्तक ; सभी छलनी है सुंदर सी ;
यही सच है तो खुशियाँ ; क्यूं उसी से भरता है यारों ?


सफर तो पूछ लेते हैं ; हम हाथों की लकीरों से ;
मगर रस्ता तो खुद ही को ; बनाना पड़ता है यारों !
--------------------------- तनु थदानी

रविवार, 31 जनवरी 2016

tanu thadani तनु थदानी सजा होगी कि हम लाचारगी बच्चों की देखेंगे

न ये हिन्दू ; न ये मुस्लिम ; कभी भी बाज आयेंगे !
मरेंगे कुत्तों की भाँति ; ये क्या इलाज पायेंगे ?




बहत्तर हूर न होंगी ; न होंगी अप्सरा कोई ;
वहाँ इक शून्य होगा ; मंत्र न नमाज पायेंगे !




महज़ तुमको डराने को ;बना डंडा है ये ईश्वर ;
करो ये प्रण कि बिन डंडे का ; इक समाज लायेंगे !




तुम्हारे बाद की पीढ़ी हो मुक्त ; श्रेष्ठ के दंभ से ;
हमारे श्रेष्ठ ये मुमकिन ; बना क्या आज पायेंगे ?


जो हम सब गाय सुअर ; लाउडस्पीकर ; में रहे उलझे ;
तो हम बच्चों की मुस्कानों में ; खुजली खाज पायेंगे !




सजा होगी कि हम लाचारगी ; बच्चों की देखेंगे ;
जिन्हें हर सांस में हम ; धर्म का ; मोहताज पायेंगे !
------------------------ तनु थदानी