रविवार, 12 अगस्त 2012

किसी ने सच कहा hey eshwar-3 (tanu thadani) हे ईश्वर -3{ तनु थदानी }


किसी  ने  सच  कहा  hey eshwar-3 (tanu thadani) हे ईश्वर -3{ तनु थदानी }





कभी हम  शक्ल  की  हर सिलवटों  पे, उलझे  जाते  हैं  !
कभी   परछाइयों    को   नाप , रस्ता    भूल   जाते   हैं !

जिन्होंने   बालपन  में  प्यार  से ,  जो -जो  रटाया   था ,
सभी  कुछ  याद   रखते   हैं  , उन्ही  को   भूल जाते  हैं !

हमारे   पास  घर  होता  है ,  माँ   होती   है ,  पापा   भी, 
उन्ही  के घर के अन्दर  क्यूँ , अलग  इक  घर  बनाते  हैं ! 

किसी  ने  सच  कहा  की   दिल में, कब्रिस्तान  बनाओ , 
की दफना उसमे गलती प्रियजनो  की ,सुख जो  पाते हैं !

ग़मों  की  बारिशों  में   है  ये  वादा ,   तुम  ना   भींगोगे, 
तुम्हारे  हाथ   में  जब  तक  मेरी , ग़ज़लों  के  छातें  हैं !

1 टिप्पणी:

  1. आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी कोड नहीं लगा हुआ है, जिसके कारण आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर समय पर प्रकाशित नहीं हो पाती है. कृपया लोगिन करके कोड प्राप्त करें और अपने पर ब्लॉग लगा लें, यहाँ यह ध्यान रखा जाना आवश्यक है कि हमारीवाणी पर हर एक ब्लॉग के लिए अलग क्लिक कोड होता है. इसके उपरांत जब भी नई पोस्ट लिखें तब तुरंत ही हमारीवाणी क्लिक कोड से उत्पन्न लोगो पर क्लिक करें, इससे आपकी पोस्ट तुरंत ही हमारीवाणी पर प्रकाशित हो जाएगी. क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

    http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

    टीम हमारीवाणी

    उत्तर देंहटाएं